दफ़्न कर दिया मुझे मज़ार से बाहर

दफ़्न कर दिया मुझे मज़ार से बाहर
मर के भी आ सका ना इंतज़ार से बाहर

आया था सबसे पहले और अब हाल देखिये
दुनिया ने मुझको कर दिया क़तार से बाहर

मैने जिसे बचाने के लिये छोड़ दी कश्ती
मुझको ड़ुबा के हो गया वो धार से बाहर

शर्ते वफ़ा में हर्फ़ कुछ ऐसे छुपे थे के
सब कुछ किया आ पाया ना क़रार से बाहर

ना आदमी, ना ज़िंदगी ना दिल की अहमियत
कर दे ख़ुदा दुनिया के कारोबार से बाहर

ख़ुद को ही बेचता रहा, खरीदता रहा
कुछ भी नहीं था मेरे ख़ुद-हिसार से बाहर

जितनी भी कोशिशें करीं काबू में आए ये
उतना ही वक़्त होता गया इख़्तियार से बाहर

सब पर यकीं किया तो ना ख़ुद पर यकीं रहा
आना है इस बाज़ार-ए-ऐतबार से बाहर

‘रोहित’ ये बस्ती ख़्वाब की कब तक सजाएगा
दुनिया बहुत अलग है इस गुलज़ार से बाहर

रोहित जैन
19-07-2010

The URI to TrackBack this entry is: https://rohitler.wordpress.com/2010/07/19/mazaar-se-baahar/trackback/

RSS feed for comments on this post.

10 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. [शर्ते वफ़ा में हर्फ़ कुछ ऐसे छुपे थे के
    सब कुछ किया आ पाया ना क़रार से बाहर]

    अच्छा है, अनवरत बहती रहे सृजन की धारा
    यह भी सच प्रतीत होता है कि

    जो खुद पर जम गया यकीं
    आ जायेगा दुनिया पर भी एतबार

  2. Bahut khoob Rohit Bhai .. loved the fifth and last one the most !!

  3. kya likhte ho miya……….shayari dil ko cheer ke nikal gayi……

  4. वाह ! बहुत सुन्दर ! शेर बहुत अच्छे हैं !

  5. My favs last and 3rd last!!!so apt so true!!!and yeaa listen 2 the 1st comment guy…khud par yakeen rakhna!!!

  6. killer!! Awesome🙂

  7. Bahut Khoob Janaab!!!

  8. Dhanya ho Prabhu

  9. शर्ते वफ़ा में हर्फ़ कुछ ऐसे छुपे थे के, सब कुछ किया आ पाया ना क़रार से बाहर

    Bahut umda likha hain bhai

  10. Really good ghazal…
    2ed, 3rd and 4th sher bahut hi acche hai, duniya ke baare mien bahut acche se batate hai..


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: