इश्क़ हमको मिला तो बनके इश्तिहार मिला

इश्क़ हमको मिला तो बनके इश्तिहार मिला
नुमाइशों से भरा आपका किरदार मिला

हर एक शख़्स यहां हमको बेक़रार मिला
हर एक आँख में खुशियों का इन्तेज़ार मिला

यूँ तो दुनिया में बहुत लोग मिले थे हमको
जिसे भी ढ़ूँढ़ना चाहा वो ही फ़रार मिला

कोई आवाज़ सुनाई तो दे रही थी हमें
मगर उठाई नज़र तो फ़क़त ग़ुबार मिला

हर एक शख़्स तड़पता हुआ मिला हमको
हर एक सिम्त हमें ग़म का कारोबार मिला

मै उसको कैसे अपना हालेदिल बयां करता
बेइख़्तियार मिला मुझको जितनी बार मिला

इसे क़िस्मत कहूँ या ज़िंदगी का खेल कहूँ
हर एक राह का पत्थर हमें मज़ार मिला

किसी शराब में तासीर वो नहीं पाई
ग़मेदुनिया में जो प्यारे हमें ख़ुमार मिला

किसी को वास्ता नहीं है किसी से भी यहाँ
हर एक शख़्स यहां मुझको रहगुज़ार मिला

के जैसे बू छुपी हुई हो फूल में ‘रोहित’
हर एक राख में सोया हुआ शरार मिला

रोहित जैन
12-03-2009

Published in: on मार्च 13, 2009 at 6:42 अपराह्न  Comments (8)  

The URI to TrackBack this entry is: https://rohitler.wordpress.com/2009/03/13/ishq-humko-mila/trackback/

RSS feed for comments on this post.

8 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. यूँ तो दुनिया में बहुत लोग मिले थे हमको
    जिसे भी ढ़ूँढ़ना चाहा वो ही फ़रार मिला

    बहुत खूब बहुत बढ़िया लिखा है

  2. किसी शराब में तासीर वो नहीं पाई
    ग़मेदुनिया में जो प्यारे हमें ख़ुमार मिला

    किसी को वास्ता नहीं है किसी से भी यहाँ
    हर एक शख़्स यहां मुझको रहगुज़ार मिला

    waah waah behad achhe lage ye sher,gazal lajawab.

  3. waah rohit jee
    ek aur laajawab ghazal

    हर एक शख़्स यहां हमको बेक़रार मिला
    हर एक आँख में खुशियों का इन्तेज़ार मिला

    यूँ तो दुनिया में बहुत लोग मिले थे हमको
    जिसे भी ढ़ूँढ़ना चाहा वो ही फ़रार मिला

    कोई आवाज़ सुनाई तो दे रही थी हमें
    मगर उठाई नज़र तो फ़क़त ग़ुबार मिला

    इसे क़िस्मत कहूँ या ज़िंदगी का खेल कहूँ
    हर एक राह का पत्थर हमें मज़ार मिला

    किसी शराब में तासीर वो नहीं पाई
    ग़मेदुनिया में जो प्यारे हमें ख़ुमार मिला

    behtreen
    har sher bahut achcha lagaa par ye to bahut bahut umda hai

    daad kabul kariye

  4. बहुत उम्दा रचना.

  5. यूँ तो दुनिया में बहुत लोग मिले थे हमको
    जिसे भी ढ़ूँढ़ना चाहा वो ही फ़रार मिला
    बहुत सुंदर.

  6. यूँ तो दुनिया में बहुत लोग मिले थे हमको
    जिसे भी ढ़ूँढ़ना चाहा वो ही फ़रार मिला

    बहुत बढ़िया…बहुत उम्दा ..

  7. यूँ तो दुनिया में बहुत लोग मिले थे हमको
    जिसे भी ढ़ूँढ़ना चाहा वो ही फ़रार मिला

    बहुत बढ़िया…बहुत उम्दा ..

  8. Khoob Likha hai …… wah wah……..


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: