कोई सूरज हमारी ताक में है

पसेज़ुल्मत कोई सूरज हमारी ताक में है
इसी उम्मीद का दम अब हमारी ख़ाक में है

नहीं है ख़ौफ़ किसी ज़ुल्म का हमें यारों
आओ देखें के जिगर कितना उस सफ़्फ़ाक में है

जो बदलती है रवानी तो बदल ले कौसर
रुख़ बदलने का हुनर आपके तैराक में है

वजूद अब भी सलामत है जान लो प्यारे
तो क्या हुआ के लिबासेबदन ये चाक में है

बुलंद कितनी भी स्याही फ़रेब की हो यहाँ
इसे पढ़ने का तजुर्बा दिलेख़ाशाक में है

उन्हे हैरत है ग़मेज़िंदगी से खुश हूँ मै
मज़ा अलग ही मिंया दर्द की खुराक में है

ना बुरा मानिये ‘रोहित’ की किसी बात का आप
हज़ार दर्द दिलेबेचारा-ए-बेबाक में है

रोहित जैन
26-11-2008

पसेज़ुल्मत == Beyond the Darkness
सफ़्फ़ाक == Cruel
कौसर == River of Heaven
दिलेख़ाशाक == Destroyed Heart

The URI to TrackBack this entry is: https://rohitler.wordpress.com/2009/02/05/koi-suraj-humari-taak-mein-hai/trackback/

RSS feed for comments on this post.

8 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. bahut khoob. mazaa aa gaya.

  2. बुलंद कितनी भी स्याही फ़रेब की हो यहाँ
    इसे पढ़ने का तजुर्बा दिलेख़ाशाक में है

    bhaijaan kahaan hain aajkal, itane din baad dhikhe, sab khair to hai!

  3. Ecstasy and ardor, this is what your poems are🙂

  4. बुलंद कितनी भी स्याही फ़रेब की हो यहाँ
    इसे पढ़ने का तजुर्बा दिलेख़ाशाक में है

    उन्हे हैरत है ग़मेज़िंदगी से खुश हूँ मै
    मज़ा अलग ही मिंया दर्द की खुराक में है

    Bahut khoob…achhi rachna hai…shubhkaamanaayen.

  5. bahut shaandar abhivyakti

  6. houslon ko apne uhi banye rakhiye,bulandiyan chune ke mansube kayam rakhiye.

  7. bahut shandar !

  8. bahut khoob !


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: