आप भी अजीब हैं

आप भी अजीब हैं
क्यूँ मेरे करीब हैं

देते हैं दवा में ज़हर
ये मेरे तबीब हैं                  तबीब == Healers

उम्र की दुआ न दो
धड़कनें मुहीब हैं                  मुहीब == Dreadful

आपको भी प्यार है
आप बदनसीब हैं

जिनके पास माल है
दिल से वो गरीब हैं

होंठ पर रहे हँसी
ऐसे कब नसीब हैं

जिनका छुरा है पीठ में                 छुरा == Knife
आपके हबीब हैं

जो देखते हैं आईना
अक्स तक सलीब हैं              सलीब == Cross

‘रोहित’ किसे आवाज़ दे
दोस्त भी रक़ीब हैं                 रकीब == Enemy
रोहित जैन
29-09-2008

Published in: on अक्टूबर 1, 2008 at 10:51 अपराह्न  Comments (3)  
Tags: , , , , , , , , , , , ,

The URI to TrackBack this entry is: https://rohitler.wordpress.com/2008/10/01/aap-bhi-ajeeb-hain/trackback/

RSS feed for comments on this post.

3 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. बहुत बहुत शुक्रिया
    तबीयत खुश कर दी आपने

    वीनस केसरी

  2. बढ़िया है….बधाई

  3. Rohit ji namskaar apki poem bahut acchi lagi, isse accha laga apka kuch word ke sath english meaning likhna. rohit ji mai bhi kuch likhna chahta hun wordpress blog par, lekin kaise likhun, kyonki starting kahan se karun? mujhe wordpress chalana batayenge? agar time ho aap ke paas. my email_ naazkalra@gmail.com thanx.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: