मां

This is a poem I wrote for my Ma on her Birthday.

She cried reading it just the way I had cried while writing the poem.
Even my Dad was into tears on reading this poem.

I bet anyone who loves his/her mother and family is bound to cry on this.

Please post replies and let me know your views on this one.

———— 

मै रोया यहां दूर देस वहां भीग गया तेरा आंचल
तू रात को सोती उठ बैठी हुई तेरे दिल में हलचल
जो इतनी दूर चला आया ये कैसा प्यार तेरा है मां
सब ग़म ऐसे दूर हुए तेरा सर पर हाथ फिरा है मां
जीवन का कैसा खेल है ये मां तुझसे दूर हुआ हूं मै
वक़्त के हाथों की कठपुतली कैसा मजबूर हुआ हूं मै
जब भी मै तन्हा होता हूँ, मां तुझको गले लगाना है
भीड़ बहुत है दुनिया में तेरी बाहों में आना है
जब भी मै ठोकर खाता था मां तूने मुझे उठाया है
थक कर हार नहीं मानूं ये तूने ही समझाया है
मै आज जहां भी पहुंचा हूँ मां तेरे प्यार की शक्ति है
पर पहुंचा मै कितना दूर तू मेरी राहें तकती है
छोती छोटी बातों पर मां मुझको ध्यान तू करती है
चौखट की हर आहट पर मुझको पहचान तू करती है
कैसे बंधन में जकड़ा हूँ दो-चार दिनों आ पाता हूँ
बस देखती रहती है मुझको आँखों में नहीं समाता हूँ
तू चाहती है मुझको रोके मुझे सदा पास रखे अपने
पर भेजती है तू ये कह के जा पूरे कर अपने सपने
अपने सपने भूल के मां तू मेरे सपने जीती है
होठों से मुस्काती है दूरी के आंसू पीती है
बस एक बार तू कह दे मां मै पास तेरे रुक जाऊंगा
गोद में तेरी सर होगा मै वापस कभी ना जाऊंगा

रोहित जैन
19-03-2006

Published in: on फ़रवरी 26, 2008 at 6:35 अपराह्न  Comments (19)  
Tags: , , , , , , , , , , ,

The URI to TrackBack this entry is: https://rohitler.wordpress.com/2008/02/26/%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%82/trackback/

RSS feed for comments on this post.

19 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. Awesome..
    i don’t have any words..

  2. बहुत सुन्दर भाव भरी कविता है.. संसार भर की मांओं का यही हाल है…. अपने प्रिय बेटे से दूरी कैसे सहती है.. उसका दिल ही जानता है.

    बधाई

  3. बस एक बार तू कह दे मां मै पास तेरे रुक जाऊंगा
    गोद में तेरी सर होगा मै वापस कभी ना जाऊंगा

    –कहने की जरुरत नहीं गर माँ के दिल की आवाज सुनो. एक भावपूर्ण रचना के लिये बधाई.

  4. bahut sundar,bhavuk kar dene wali kavita hai,maa ka pyar,mamta kahi bhi pahunchne ki shkamata rakhti hai,bahut sundar,great feelings.

  5. भावभीनी रचना… और जहाँ माँ का ज़िक्र हो… आँचल आँसू से न गीला हो…कैसे हो सकता है…. बहुत सुन्दर… ममता भरी कविता !

  6. शब्दों और भाव का अदभुत मिश्रण है।माँ इस एक शब्द मे बहुत ताकत है।

  7. ultimate touching one

  8. Too Good hai Sir !

    कैसे बंधन में जकड़ा हूँ दो-चार दिनों आ पाता हूँ
    बस देखती रहती है मुझको आँखों में नहीं समाता हूँ

    Waah !

  9. लोग कहते हैं की भगवान हर स्थान पर उपस्थित नहीं हो सकता था इसलिए उसने माँ को बनाया पर आज कुछ बदल सा गया है
    माँ अब जब हमारे साथ नहीं होती इसलिए भगवान को साथ कर देती है अपनी दुआयों से | कविता में पूरा भाव वही है, बहुत अच्छा लिखा है रोहित जी, बधाई !!

  10. relly nice rohit ji i don,t have any word about this poem …..

  11. It’s really too good …
    Bahut kuch likha hai.

    I have no words to express how did i feel after reading this…

    We need such kind of poetry in our real life. Thanks Rohit..
    Good Luck…

  12. जो इतनी दूर चला आया ये कैसा प्यार तेरा है मां
    सब ग़म ऐसे दूर हुए तेरा सर पर हाथ फिरा है मां
    बहोत ग़हराइ से ये लिखा होगा आपने।
    अभिनंदन।

  13. Bahut hi badiya, Rohit jee.

    बस एक बार तू कह दे मां मै पास तेरे रुक जाऊंगा
    गोद में तेरी सर होगा मै वापस कभी ना जाऊंगा

    Awesome lines

  14. माँ तेरी गोद मैं सर रखकर अब सोने को दिल करता है,
    उस आँचल की छाँव मैं सब कुछ खोने को दिल करता है …..

    उन अनकही बातों से भरी उन आँखों ने जब रोका था,
    मुझको अब उन बातों को फ़िर सुनने को दिल करता है,

    संसार की अभी आदरणीय माँओं को उनके इस निस्वार्थ त्याग के लिए सादर प्रणाम….
    और आपको इस अनमोल रचना के लिए बधाई भी …..

    — गौरव मिश्र [Gaurav Mishra]

  15. beautiful poem…gud work dude…

  16. Hey

    fantastic poem. very emotional and very touchy.

    Keep writing & keep inspiring

    Beautifully written

    Be well

    Ananth V

  17. rohit sahab bahut badiya likha hai aapne.

  18. रोहित जी
    सदा दुखी रहो
    बहुत ही जी के माँ जननी पर लिखा है
    श्यामल जी की कविता पर आपने बहुत अच्छी टिपण्णी दी है

  19. आपको इस अनमोल रचना के लिए बधाई


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: