रात सूनी सूनी है और सहर खामोश है

रात सूनी सूनी है और सहर खामोश है
तुम चले गये तो सारा शहर खामोश है

कैसा तन्हा है समाँ ताज़ीर-ए-खामोशी मुहीब
दिल धड़कता था कभी अब मगर खामोश है

उम्र भर वो साथ थे पर नहीं समझे मुझे
मेरी नज़र में इल्तिमास उनकी नज़र खामोश है

वक़्त है आतिश-मिजाज़ और रोना है मना
बर्क़ दिखती है मगर उसका असर खामोश है

ना दोस्ती ना वफ़ा ना उम्मीद-ओ-हौसला यहाँ
ज़िन्दगी है कारवाँ पर किस क़दर खामोश है

लाओ तुम्हारे हाथ का पत्थर तराश दूँ ज़रा
तासीर बढ़ा दूँ अभी धार-ए-हजर खामोश है

बुझा है वो ही चिराग जिसमें लौ-ए-ज़ीश्त थी
उसी पे आ के ज़र्ब पड़ा जो शजर खामोश है

बात यूँ तो करी उसने ज़माने की हुज़ूर
पर जाने क्या हुआ मेरे नाम पर खामोश है

रोहित जैन
07/02/2007

सहर = Dawn
ताज़ीर = Punishmant
मुहीब = Dreadful
इल्तिमास = Request / Appeal
आतिश-मिजाज़ = Having the temprament of fire
बर्क़ = Lightning
तासीर = Effect
धार-ए-हजर = Sharpness of the stone
लौ-ए-ज़ीश्त = Flame of Life
ज़र्ब = Injury
शजर = Tree

The URI to TrackBack this entry is: https://rohitler.wordpress.com/2008/02/20/%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%a4-%e0%a4%b8%e0%a5%82%e0%a4%a8%e0%a5%80-%e0%a4%b8%e0%a5%82%e0%a4%a8%e0%a5%80-%e0%a4%b9%e0%a5%88-%e0%a4%94%e0%a4%b0-%e0%a4%b8%e0%a4%b9%e0%a4%b0-%e0%a4%96%e0%a4%be%e0%a4%ae/trackback/

RSS feed for comments on this post.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: